Haryana Pashu Sanjeevani Sewa

Pashu Sanjeevani Sewa Haryana

Haryana Pashu Sanjeevani Sewa :- हरियाणा सरकार ने प्रदेश में ‘पशु संजीवनी सेवा’ योजना (Haryana Pashu Sanjeevani Sewa ) शुरू की है। इस योजना के तहत पशुपालकों को मोबाइल पशु चिकित्सा के माध्यम से नि:शुल्क गुणवत्ता चिकित्सा सेवाएं दी जाएगी। इस सेवा में जानवरों के लिए मोबाइल एम्बुलेंस होगा जिसमें डॉक्टर, सहायक और दवा मोके पर ही मुहया होगी। पशुपालकों के द्वारा कॉल पर गांव जाएंगे और आवश्यक जांच और उपचार करेंगे। इस सेवा को शुरू करने के लिए हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर द्वारा आधिकारिक मंजूरी मिल गई है। यह योजना हरियाणा सरकारकी प्रमुख योजना है जिसे पायलट आधार पर कई जिलों में भी शुरू किया जाएगा। मोबाइल पशु चिकित्सा सेवाओं को पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप (पीपीपी) मोड में प्रदेश के स्टाफ की कमी वाले और दूर-दराज के क्षेत्रों में शुरू किया जाएगा।

Haryana Pashu Sanjeevani Sewa 

इस योजना के लिए पशुपालक टोल फ्री नम्बर 1962 पर फोन करके 24 घण्टे मोबाइल चिकित्सा क्लीनिक की सेवाओं का लाभ उठा सकेंगे। प्रत्येक मोबाइल वाहन में तीन सदस्यों का एक दल होगा, जिसमें एक पशु चिकित्सक, एक पैरा वैट और एक सहायक-सह-चालक शामिल हैं। इस योजना में पशुपालक से हर दौरे के हिसाब से 100 रुपये की मामूली फीस वसूल की जाएगी। लेकिन उपचार और औषधियां निशुल्क उपलब्ध करवाई जाएंगी।

Pashu Sanjeevani Sewa Haryana

Objective of Haryana Pashu Sanjeevani Sewa 

* इसके अलावा इस सरकारी सेवा को राज्य के सभी किसानो का बोझ काम करने भी शुरू किया है।
* इस योजना की शुरुआत हरियाणा में शुरू की गई है।

* इस सेवा को तीन जिलों नामत: जींद, यमुनानगर और नूंह के सभी खण्डों में आरम्भ किया जाएगा।
* इन तीनों जिलों के प्रत्येक खण्ड की सेवा में एक मोबाइल वाहन को लगाया गया है ताकि पशुधन को आपातिक चिकित्सा सेवाएं और स्वास्थ्य देखभाल सेवाएं प्रदान की जा सकें।

* हरियाणा राज्य में 1018 पशु अस्पताल, 7 पोलिक्लीनिक्स और 1814 पशु औषधालय हैं।
* सेवा मुख्य रूप से राज्य में कर्मचारियों की कमी और दूरदराज के क्षेत्रों के लिए है।

* इस योजना का निर्णय मुख्यमंत्री मनोहर लाल की अध्यक्षता में पशुपालन एवं डेरी विभाग की एक बैठक में लिया गया।
* राज्य में घरेलू जानवरों को गुणवत्तापूर्ण चिकित्सा सेवाएं प्रदान करने के लिए सेवा को शुरू किया गया है।

* हरियाणा में जिन दूर-दराज के क्षेत्रों में स्टाफ की कमी है वहाँ इस योजना को शुरू किया जाएगा।
* यह योजना पशुधन को तुरंत आपतिक चिकित्सा सेवाएं प्रदान करने में सहायक होगी।

* हर मोबाइल एम्बुलेंस में तीन सदस्यीय टीम, एक पशु चिकित्सक, सहायक सह चालक और एक पैरा वैट उपस्थित होगा।

 Haryana Pashu Sanjeevani Sewa Toll Free No 1962  

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *